Morning Walk: सुबह सुबह सैर करने के क्या फायदे है, 20 फायदे

सुबह-सुबह की ऑक्सीजन में प्रदूषण की काफी कमी रहती है यानी कि सुबह सुबह का अक्सीजन काफी स्वच्छ रहता है। और वातावरण में दिन का उच्च ऑक्सीजन भी मौजूद होता है इसलिए सुबह के समय में टहलना हमारे स्वास्थ्य ( Health Benefits of Morning Walk) के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होता है। सुबह-सुबह टहलने के दौरान हम जब अक्सीजन ग्रहण करते हैं, तो उससे हमारे शरीर में तन मन में स्फूर्ति पैदा होती है, मन स्वस्थ रहता है तथा कई अन्य सारे लाभ भी मिलते हैं। आइये उनके बारे में विस्तार से जानते हैं कि सुबह के सैर के फायदे क्या क्या है (subah ki sair ke fayde in Hindi) ।

Index hide
1 मॉर्निंग वॉक के फायदे – Benefits of Morning Walk in Hindi

मॉर्निंग वॉक के फायदे – Benefits of Morning Walk in Hindi

  • दिल का दौरा नहीं पड़ता है।
  • फेफड़े मजबूत बनता है।
  • रक्तचाप में राहत मिलता है।
  • अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ती है।
  • जोड़ों के दर्द में राहत मिलता है।
  • वजन नियंत्रित करने में सहायक होता है।
  • आंखों की रोशनी में वृद्धि होती है।
  • याददाश्त बढ़ती है।
  • चोटिल होने की संभावना नहीं रहती।
  • पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती है।

Morning Walk Ke Fayde

दिल का दौरा ( Regular Morning Walk se Dil ka Daura Nahi Parta)

नियमित रूप से सुबह सुबह टहलने से दिल से जुड़ी कई सारी समस्याओं में राहत मिलती है, जैसे दिल का दौरा पड़ना, हार्ट अटैक आदि इन सब बीमारियों में काफी लाभप्रद सिद्ध होता है। इसीलिए सुबह-सुबह का सैर हमें जरूर करना चाहिए।

दिल और फेफड़ों को मजबूत बनाने में सहायक ( Morning Walk Helps Strengthen The Heart And Lungs )

अगर आप नियमित रूप से टहलने वालों में शामिल है तो आपके दिल और फेफड़े काफी मजबूत बन जाते हैं और उनके अंदर प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है और जब वह एक्साइज या दूसरे व्यायाम करते हैं तो जल्दी थकते नहीं है। जिससे उनको उनकी अधिक वजन उठाने (Weight Lift) की छमता काफी बढ़ जाती है।

रक्तचाप नियंत्रण में सहायक ( Morning Walk Helpful in Blood Pressure Control in Hindi )

आजकल तो ज्यादातर लोगों को रक्तचाप से जुड़ी समस्याएं हैं उनके लिए सुबह का सैर संजीवनी की तरह काम करता है। किसी भी तरह का ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए सुबह का शहर काफी सहायक सिद्ध होता है। नियमित रूप से टहलने से शरीर में रक्तचाप कभी बढ़ता नहीं है।

यह भी पढ़ें: डायबिटीज रोगी के लिए आहार योजना क्या होना चाहिए ?

अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ती है – Increases The Amount of Good Cholesterol in Hindi

नियमित रूप से टहलने से शरीर में मौजूद अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ती है जिससे दिल का दौरा पड़ने वाली समस्याएं खत्म हो जाती है।

जोड़ों की समस्या से निजात  – Get Rid of Joint Problem By Morning Walk in Hindi

ऐसे रोगी जिनको जोड़ों की समस्या है उनके लिए भी सुबह का सैर काफी लाभदायक होता है जोड़ों के दर्द से निजात (Get Rid of Joint Pain ) पाने के लिए सुबह का सैर जरूरी है क्योंकि, इससे हमारे शरीर को एक शक्ति मिलती है। सुबह के समय वातावरण में मौजूद ऑक्सीजन की मात्रा काफी उच्च होती है, इसलिए हमारे शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति भरपूर रूप से होती है जोकि जोड़ों से समस्या (jodo ki samasya ke upay)से जूझ रहे लोगों के लिए निजात दिलाने में काफी मददगार साबित होता है।

वजन नियंत्रित कर सकते हैं – Can Control Weight By Morning Walk in Hindi

वजन की अधिकता से जूझ रहे लोगों के लिए सुबह का सैर वजन घटाने में काफी सहायता प्रदान करता है। नियमित रूप से सुबह का सैर कर महीने में 10 किलो वजन आसानी से कम किया जा सकता है। ऐसे लोग जो हाई इंटेंस वर्कआउट (High intensity workout) नहीं कर सकते हैं या अपने डाइट में कंट्रोल (Diet Control) नहीं कर सकते हैं। उनके लिए नियमित मॉर्निंग वाक वजन को नियंत्रित करने में (Subah ke sair se motapa kam hota hai) काफी सहायता प्रदान करता है। और अगर वो डाइट चार्ट को फॉलो करें तो आसानी से रोजाना 40 मिनिट्स मॉर्निंग वाक की मदद से तेजी से वजन नियंत्रित कर सकते हैं। (वजन कैसे कम करें)

आंखों की रोशनी में वृद्धि – Morning Walk Se Ankho ki Roshni me Vridhi

सुबह-सुबह टहलने से आंखों की रोशनी में वृद्धि होती है(Walking in the morning increases eyesight)। अगर आप हरे घास पर टहलते है, तो उसके लिए ढेरों सारे फायदे हैं आंखों से जुड़ी कई सारी समस्याओं को दूर करने में यह काफी मददगार साबित होता है। अगर आँखों की रोशनी से जुड़ी कोई समस्या है तो सुबह-सुबह नरम नरम घास पर ओश की बुँदे जब गिरी हुई होती है तो उस पर खाली पैर चलने से काफी लाभ मिलता है।

याददाश्त को मजबूत होना – Memory Strengthening in Hindi

स्वस्थ शरीर होने में हमारी याददाश्त का भी योगदान होता है (yaddasht majboot karne ke gharelu nuskhe)। सुबह सुबह टहलने से याददाश्त काफी तेज होता है। कई सारे ऐसे रिसर्च हुए जिसमें यह पाया गया कि सुबह-सुबह टहलने से ढेरों फायदे मिलते हैं, उनमें से याददाश्त को मजबूत होना भी पाया गया है।

शरीर की हड्डियां मजबूत होती है – Morning Walk Make Bones Strong in Hindi

नियमित रूप से रोजाना टहलने से शरीर की हड्डियां मजबूत होती है (Haddiyo ko majbut banane ke upay)। तथा इसके लिए आपको अलग से कुछ एक्स्ट्रा शारीरिक मेहनत की जरूरत नहीं पड़ती यह बहुत ही सामान्य सी बात है इसमें ज्यादा अंडरस्टैंडिंग की जरूरत भी नहीं पड़ती बाकी के ज्यादातर एक्साइज में आपको एक गाइड की जरूरत पड़ती है मगर मॉर्निंग वॉकिंग इतना सिंपल है जिसे कोई भी आसानी से कर सकता है।

सबसे सुरक्षित व्यायाम – Morning Walk is a Safest Exercise in Hindi

मॉर्निंग वाकिंग सबसे सुरक्षित व्यायाम है(subah ka sair sabse surakshit exercise) मॉर्निंग वॉक करने से आपको किसी भी तरह की कोई शारीरिक चोट लगने की संभावना नहीं रहती। ज्यादातर एक्साइज में नियमों का पालन करना जरूरी होता है, नहीं तो उसके बहुत सारे साइड इफेक्ट देखने को मिलते हैं, मगर मॉर्निंग वॉक हर तरह से सुरक्षित माना जाता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए सबसे ज्यादा हितकारी है – Morning Walk is Most Beneficial for Pregnant Women

महिलाओं के लिए गर्भावस्था के दौरान सबसे सुरक्षित व्यायाम (garbhvati mahila ke liye vyayam) सुबह का सैर माना जाता है, क्योंकि इसमें किसी भी तरह का नुकसान न तो गर्भवती महिलाओं के लिए होता है, और ना ही गर्भ में पल रहे बच्चों के लिए होता है। किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।

सुबह का सैर बहुत ही आनंदमय व्यायाम – Morning walk very enjoyable exercise in Hindi

वैसे देखा जाए तो ज्यादातर व्यायाम कष्टदायक होता है मगर मॉर्निंग वार करते समय अगर कानों में एयरफोन लगा ले और मनपसंद गाना शुरू कर दे उसके बाद फिर टहलना शुरू करें तो फिर सुबह के सैर का आनंद 4 गुना बढ़ जाते हैं। साथ में शारीरिक लाभ तो मिलता ही मिलता है, आपका मूड भी फ्रेश हो जाता है, और पूरा समय आनंदमय से भरपूर रहता है।

डिप्रेशन का इलाज है नियमित टहलना – Regular walking is a treatment for depression

ऐसा देखा जाता है कि बढ़ती उम्र के साथ याददाश्त कमजोर होने लगता है, मगर जो लोग नियमित रूप से सैर करते हैं, उनमे याददाश्त कमजोर होने की आशंका खत्म हो जाती है या बिल्कुल कम हो जाती है। साथ साथ नियमित रूप से 45 मिनट टहलने से डिप्रेशन जैसी गंभी गंभीर बीमारी के शिकार होने की संभावना बिलकुल ख़त्म सी हो जाती है।

पैरों की नसों की मांसपेशियों को आराम – Relaxing The Nerves of The Legs in Hindi

हेवी वेट उठाने से या किसी कारणवश पैरों की नसों में दर्द रहता है, जिसकी वजह से वह व्यायाम नहीं कर पाते हैं ऐसे लोगों के लिए टहलना सबसे कारगर व्यायाम है इससे आपकी पैरों की नसों की मांसपेशियों को आराम ( Pairo ki naso ke dard ka upay) भी मिलता है। साथ साथ इसके हर तरह के फायदे भी आपको मिलते हैं।

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर और प्रोटेस्ट कैंसर से बचने के उपाय – Measures to avoid breast cancer and Protest cancer in women

जो महिलाएं नियमित रूप से 40 मिनट से 50 मिनट तक टहलती हैं, उनके अंदर ब्रेस्ट कैंसर और प्रोटेस्ट कैंसर होने की संभावना लगभग लगभग 50% तक कम हो जाती है।

नियमित रूप से सैर करने वाली महिलाओ में बाकि महिलाओ की तुलना में मृत्यु दर (मोर्टलिटी रेट ) भी 50% तक नियंत्रित हो जाती है।

बेहतर इम्यून सिस्टम के लिए – Morning Walk for For better Immune System in Hindi

आजकल इम्यून सिस्टम को लेकर बहुत लोगों की शिकायत रहती है, कि उनकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो चुकी है, मगर जिन लोगों को दिन लोगों के प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली को विकसित करना है या उस को मजबूत बनाना है, उसके लिए नियमित रूप से 40 मिनट का सैर जरूर करें सुबह का सैर आपकी रोग प्रतिरोध क्षमता प्रणाली को काफी मजबूत और बेहतर बनाएगा साथ-साथ कई बीमारियों में लड़ने में भी मददगार साबित होगा ।

सुबह का सैर से संपूर्ण स्वास्थ्य लाभ – Morning Walk Gives Complete Health Benefits in Hindi

वैसे तो ढेर एक्साइज जिनके करने से हमें संपूर्ण स्वास्थ्य लाभ मिलता है, उन्ही एक्साइज में सुबह का टहलना भी एक है सुबह का सैर एक ऐसा व्यायाम है जो हर तरह के लोग कर सकते हैं इसमें किसी भी आयु वर्ग के लोगों को करने में कोई दिक्कत नहीं होती है। उससे उनको संपूर्ण स्वास्थ्य लाभ मिलता है।

यह भी पढ़ें: अच्छी और स्वस्थ सेहत के लिए कुछ आसान तरीके !

आपकी मांसपेशियों की दर्द में राहत हो, दिमाग की मेमोरी बढ़ाना हो, वजन नियंत्रित करना हो, शरीर को टोंड रखना हो, इम्यून सिस्टम बढ़ाना हो या किसी भी तरह की कोई भी बीमारी हो उन सब से बचने का सबसे बेहतर विकल्प और सबसे बेहतर उपाय सुबह का सैर ही है। नियमित तौर से सुबह का सैर करने से आपको संपूर्ण स्वास्थ्य लाभ मिलता है।

ब्रेन स्ट्रोक की संभावना को खत्म करता है – Morning Walk Brain Stock Se Bachata Hai

रोजाना सुबह की सैर करने से बेन स्टोक्स संभावना को काफी हद तक कम किया जा सकता है, अगर आप पूरे सप्ताह में 4 से 5 घंटे भी टहलते हैं तो ब्रेन स्टोक जैसी जानलेवा बीमारी से बच सकते है।

Benefits of Morning Walk

 

विभिन्न आयु वर्ग के लोगों के लिए निर्धारित कदम – Morning Walk Steps for for Different Age Groups in Hindi

मॉर्निंग वॉक का फायदा तभी ज्यादा से ज्यादा मिलता है, जब आप अपने उम्र के हिसाब से कदम चलते हैं। यानी हर आयु वर्ग के लोगों के लिए मॉर्निंग वॉक का कदम अलग-अलग निर्धारित की गई है।

5 से 7 साल की उम्र के बच्चों के लिए कितना कदम होना चाहिए? जिन लोगों की उम्र 40 साल पार कर चुकी है उनके लिए कितना निर्धारित कदम चलना चाहिए ? 60 साल के पार कर चुके लोगों के लिए सुबह का सैर में कितना कदम चलना चाहिए ? अगर इन नियमों को पालन करेंगे तो आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा मिलेगा और से आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी।

आइये जानते हैं बारी-बारी से की किन उम्र के के लोगों के लिए कितना कदम सुबह की सैर में चलना चाहिए।

– सुबह की सैर के लिए जिन बच्चों की उम्र 5 से 7 साल की है उन्हें 12000 से 15000 कदम नियमित तौर से चलना चाहिए। इससे उनको ज्यादा से ज्यादा फायदा मिलता है और मॉर्निंग वॉक इन बैलेंस नहीं होता यानि ये परफेक्ट कदम है।

– जिन लोगों की आयु 18 साल से ज्यादा है और 20 साल से कम है, उन लोगों के लिए रोजाना 12000 कदम मॉर्निंग वॉक करना चाहिए यह बहुत ही परफेक्ट कदम है।

– वो लोग 40 साल की उम्र को पार कर चुके हैं उनके लिए मॉर्निंग वॉक का निर्धारित कदम 11000 है यानी कि 40 साल से अधिक लोगों के लिए 11000 कदम रोजाना नियमित तौर से वॉक करना चाहिए।

– जिन लोगो की आयु 50 साल पार कर चुकी है उनके लिए नियमित तौर से 10000 कदम रोजाना चलना चाहिए इससे ज्यादा चले ना चले और कम भी ना चले यह 50 साल की आयु के लिए एक बहुत ही उत्तम निर्धारित कदम है। और इससे आपको ज्यादा ज्यादा फायदा देखने को मिलेंगे।

– ऐसे लोग 60 साल को पार कर चुके हैं उनके लिए निर्धारित कदम 8000 है यानि नियमित तौर से उनको 8000 कदम पैदल चलना चाहिए इससे ज्यादा ना चले क्योंकि मांसपेशियों में फिर खिंचाव शुरू हो जाएगा और फिर दिक्कतें आएंगी कम भी ना चले यानी कि 60 साल की उम्र के लोगों के लिए बहुत ही पर्फेक्ट कदम 8000 है।

मॉर्निंग वॉक हर आयु वर्ग के लोगों के लिए अलग अलग समय सीमा निर्धारित की गई है उसी के अनुसार मॉर्निंग वॉक करें इससे आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा मिलेगा।

 

मॉर्निंग वॉक का समय – Subah Sair Par Jane Ka Sahi Samay

मॉर्निंग वॉक का सबसे बेस्ट समय क्या है?  वैसे तो मॉर्निंग वॉक आप सुबह के किसी भी समय कर सकते हैं। जब आपको समय मिले उसे वक्त समय निकाल कर सैर पर निकल सकते हैं। मगर अगर इसकी सही समय की बात करें तो मॉर्निंग वॉक सुबह के 4:00 से 6:00 के बीच में अगर करते हैं, तो उसका आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा मिलता है। क्युकी उस वक्त वातावरण में प्रदूषण सबसे निम्नतम स्तर पर होता है शरीर में ज्यादा से ज्यादा स्वच्छ हवा आपके शरीर के अंदर पहुंचता है।

 

आपके लिए सुझाए गए:-

स्वस्थ जिंदगी के लिए किस तरह की जीवन शैली होनी चाहिए ?

महिला तथा पुरुष के लिए स्वस्थ संतुलित आहार क्या होना चाहिए ?

Online Shopping

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *