NEET परीक्षा : समान अंक मगर रैंक अलग अलग कैसे शोएब आफताब और आकांक्षा सिंह

NEET परीक्षा 2020 Exam Topper

वैसे तो NEET परीक्षा हो चुका है और रिजल्ट भी आ चुका है, नीट का एग्जाम मेडिकल में प्रवेश के लिए दाखिले के लिए ली जाती है ! और उस में प्राप्त अंकों के आधार पर विद्यार्थियों को अच्छे कॉलेजों में एडमिशन मिलते हैं, मगर इस बार की परीक्षा में जो मुख्य चर्चा का विषय है वह यह है कि शोएब आफताब और आकांक्षा सिंह दोनों के सामान नंबर होने के बावजूद भी आकांक्षा सिंह को सेकंड रैंक मिले हैं!

आकांक्षा सिंह के रिजल्ट से वैसे तो घरवाले उनके काफी खुश नजर आ रहे हैं ! उनकी मां रुचि सिंह का कहना है कि मेरी बेटी ने काफी मेहनत की है जिसका परिणाम उन्हें मिला है और उनके घर के सारे सदस्य सदस्य काफी खुश दिखाई दे रहे हैं !

मगर उनका एक शिकायत यह भी है कि आकांक्षा सिंह के नाम पर कुछ फेक अकाउंट बनाकर के सोशल मीडिया पर यह चर्चा का विषय बनाया गया है कि शोएब आफताब और आकांक्षा सिंह के दोनों के नंबर जब बराबर है फिर आकांक्षा सिंह के रैंक सेकंड क्यों ? दोनों के ही सामान नंबर (720) मिले हैं मगर आकांक्षा सिंह को रैंक जो है वह सेकंड पोजीशन पर दी गई है !

 

NEET Exam 2020 कंट्रोवर्सी 

दरअसल इस साल नीट की जो एग्जाम है वह संपन्न हो चुकी है और इस एग्जाम में ओडिशा के शोएब आफताब और आकांक्षा सिंह को सामान रूप से 720 नंबर मिले हैं दोनों को समान अंक मिलने के बावजूद शोएब आफताब को फर्स्ट पोजीशन मिले हैं और आकांक्षा सिंह को सेकंड पोजीशन दी गई है जो की चर्चा का भी विषय है बना हुवा है लेकिन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ट्राई ब्रेकिंग रूल्स के तहत जो एग्जाम में बैठने वाले या एग्जाम में उत्तीर्ण होने वाले दो समान स्टूडेंट्स के मार्क्स समान होने पर जिनकी उम्र कम है उनको सेकंड रैंक दी जाती है और जिनकी उम्र ज्यादा है उनको फर्स्ट रैंक दी जाती है !

हालांकि आकांक्षा सिंह का कहना है कि उन्हें पहले से ही उम्मीद थी कि उन्हें उन्हें 720 से ज्यादा नंबर आएंगे मगर उनको इस बात का उम्मीद नहीं थी की उनको सेकंड पोजीशन यानि इतनी बढ़िया रैंक मिलेगी और उनका यह भी कहना है कि उनका कोई भी सोशल मीडिया पर अकाउंट नहीं है इनके इसके बावजूद भी उनके नाम की कई सारी फेक आईडी बनाकर इस बात को चर्चा का विषय बनाया गया है कि दोनों के बराबर मार्क्स होने के बावजूद आकांक्षा सिंह को सेकंड रैंक क्यों दी गई फर्स्ट क्यों नहीं दी गई !

जब आकांक्षा के पिता से बातें की गई तो उनका कहना था कि उन्हें इससे कोई तकलीफ नहीं है कि उनकी बेटी को सेकंड रैंक मिला है उनका कहना था कि उनकी बेटी ने काफी मेहनत की थी काफी लगन से पढ़ाई कर रही थी जिसका परिणाम उन्हें मिला है और वो इस रिजल्ट से काफी खुशी है वह बहुत खुश है अपनी बेटी के रिजल्ट को देख कर !

उनको सेकंड पोजीशन से कोई दिक्कत नहीं है मगर उनका कहना यह है कि जब उनकी बेटी का सोशल मीडिया पर कोई अकाउंट है ही नहीं तो फिर क्यों लोग उनके नाम से उसके नाम की फेक आईडी बना कर के एक कैंपेन चला रहे हैं कि उनको सेकंड पोजीशन क्यों दी गई हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने इसकी नजदीकी थाने में शिकायत दर्ज करा दी है !

 

आकांक्षा सिंह के पिता (NEET Exam 2020)

आकांक्षा सिंह के पिता पहले एयर फोर्स में कार्यरत थे हालांकि उन्होंने समय से पहले ही रिटायरमेंट ले ली, और उनकी पत्नी यानि आकांक्षा सिंह की मां एक शिक्षिका है जो स्कूल में पढ़ाती है और उनका कहना है कि आकांक्षा काफी होशियार लड़की है उनकी बेटी काफी इंटेलिजेंट है और कुशीनगर के आस पास कोई बढ़िया सा इंस्टिट्यूट नहीं था इस वजह से उनको गोरखपुर भेजने का फैसला किया उनके गांव कुशीनगर में शिक्षक की कमी है जिसकी वजह से उनको गोरखपुर भेजने का फैसला लिया !

उनकी बेटी आकांक्षा सिंह ने गोरखपुर में जाकर के पढ़ाई करी उनका यह भी कहना था कि उनकी बेटी क्लास स्कूल की आखिरी पीरियड मिस कर देती है क्योंकि जल्दी से जल्दी घर पर पहुंचकर उनको ट्यूशन भी लेना होता है कोचिंग में जाना होता है उनका यह भी कहना है कि जब उनकी बेटी लेट हो जाती है घर पर नहीं पहुंच पाती है समय से तो उनके मन में काफी धुक धुक सी लगी रहती है !

 

NEET परीक्षा 2020 आकांक्षा सिंह मां

आकांक्षा की मां का कहना है कि वह स्कूल जाने से पहले घर का सारा काम काज कर के जाती थी खाना तैयार करके जाती थी फिर स्कूल से लौट कर के दोपहर में अपनी बेटी को बस में बैठा आया करती थी
फिर जब उनकी बेटी पढ़ाई करके जब तक वापस लौट कर नहीं आ जाती थी तब तक उनके मन में हमेशा डर बना रहता था कई बार आते वक्त शाम को लेट हो जाती थी जिसकी वजह से उनको काफी डर लगता था
वह बताती है कि उनकी बेटी ने जो तकलीफ उठाई है तो उसका परिणाम भी उसको मिला है अब उस परिणाम को देख कर के घर वाले सभी खुश है उसके मम्मी पापा दोनों खुश है

 

NEET परीक्षा 2020 Topper आकांक्षा सिंह Future Plan

आकांक्षा सिंह का मानना है कि न्यूरो सर्जरी के क्षेत्र में काफी स्कोप है उसमें काफी अच्छा कैरियर है और वह उसी चक्कर में आगे बढ़ना चाहती है और उसमें अपना करियर बनाना चाहती है और इसी फील्ड में वह अपने रिसर्च भी कंप्लीट करना चाहती है आकांक्षा का कहना है कि हार्ड वर्क डेडीकेशन और डिसिप्लिन से किसी भी मुश्किल लक्ष्य को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है वह अपनी सफलता का श्रेय हार्ड वर्क और डेडिकेशन को देती है !

NEET Exam 2020

 

Read: रेडियो जॉकी कैसे बने

 

Follow Us: Facebook, Twitter, Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *