Skip to content

How to Increase Domain Authority: 17 Ways in 2022

वेबसाइट की अच्छी डोमेन अथॉरिटी गूगल के सर्च रिजल्ट के लिए काफी अच्छा माना जाता है। मैं आपको Increase Domain Authority के बारे में बताने जा रहा हु जहा आपको मैं अपने वेबसाइट की डोमेन अथॉरिटी बढ़ाने के 17 टिप्स साझा कर रहा हु।

किसी भी वेबसाइट का जितना बेहतर डोमेन अथॉरिटी होगा उसका उसका गूगल सर्च सर्च रिजल्ट में कंटेंट रैंक करने के चांसेस बढ़ते हैं। क्युकी गूगल अपनी एल्गोरिथ्म के अनुसार वेबसाइट की ऑथेंटिसिटी रैंक भी चेक करता है।

जिस वेबसाइट की जितनी अच्छी रैंक होगी उसको गूगल के द्वारा उतनी अच्छी प्राथमिकता मिलती है।

कंटेंट का सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करने के लिए 200+ रैंकिंग फैक्टर होता है जिसमे डोमेन ऑथोरोरिटी भी एक है।

किसी भी वेबसाइट पर अच्छे ट्रैफिक लाने के लिए उसके कंटेंट का SEO बहुत जरुरी होता है, मैं इस पोस्ट में आपको यही बताऊंगा की कैसे आप अपने ब्लॉग्गिंग वेबसाइट का डोमेन अथॉरिटी स्कोर बढ़ा सकते है।

 

Domain Authority क्या है ?

वेबसाइट की रैंकिंग का यह पैमाना है जो यह दिखाता है कि आपके वेबसाइट कंटेंट गूगल के सर्च इंजन रिजल्ट में कितना बेहतर तरीके से दिखेगा या इस अथॉरिटी स्कोर के आधार पर आपका कंटेंट सर्च इंजन में रैंक करने का प्रिडिक्शन्स क्या है।

मौज के द्वारा बनाया गया यह डोमेन अथॉरिटी स्कोर मेट्रिक्स 1 से लेकर 100 तक का स्कोर देता है। जिस साइट का जितना ज्यादा उच्च स्कोर होगा उस साइट के कंटेंट का उतना ही ज्यादा गूगल सर्च रिजल्ट में रैंक करने का चांस होता है।

एक डोमेन अथॉरिटी स्कोर को काउंट करने के लिए बहुत सारा फैक्टर कैलकुलेट किया जाता है। लेकिन अगर हम जनरलाइज आईडिया की बात करें जैसे गूगल, एप्पल, माइक्रोसॉफ्ट इत्यादि जैसे वेबसाइट की तो इनकी डोमेन अथॉरिटी स्कोर 95 से 100 तक की होती है।

कुछ नई वेबसाइट जिस पर कंटेंट कम मात्रा में होते हैं और उनपर ज्यादा काम नहीं हुवा होता है उनकी डोमेन अथॉरिटी 10 से 20 के बीच होती है। कुछ की 10 से नीचे भी होती है।

 

What is a Good Domain Authority Score in Hindi?

आपको अपने Domain Authority Score को बढ़ाने के लिए कई तरह के तरीके अपनाने होते है। किसी साइट का डोमेन डोमेन अथॉरिटी स्कोर कितना ख़राब है या कितना बढ़िया इसके लिए हम निम्नलिखित डाटा के आधार पर तय कर सकते हैं।

एक अच्छी डोमेन अथॉरिटी रैंकिंग क्या है?

30 से निचे को खराब डोमेन अथॉरिटी स्कोर में गिना जाता है।

30 से 40 औसत से निचे का डोमेन अथॉरिटी स्कोर।

40 से 50 औसत स्कोर में गिना जाता है।

50 से 60 is अच्छा डोमेन स्कोर में गिना जाता है।

60 से 70 बहुत अच्छा डोमेन अथॉरिटी स्कोर में गिना जाता है।

80 से ऊपर डोमेन अथॉरिटी स्कोर को excellent में गिना जाता है।

 

इसे भी पढ़े: Bounce Rate Kya Hai: 21 तरीकों से बाउंस रेट कम करे

 

11 Facts About Domain Authority Score in Hindi

डोमेन अथॉरिटी के लिए कुछ महत्वपूर्ण बिंदु हैं जिसे हर किसी कोई जो अपने डोमेन अथॉरिटी स्कोर को बेहतर करने के लिए काम कर रहा है उसे जानना जरूरी आवश्यक होता है जैसे की:

1. कई बार डोमेन अथॉरिटी उच्च होने के वावजूद भी गूगल के सर्च रिजल्ट में उसको Penalties कर दिया जाता है जिसके कई दूसरे कारण होते है।

2. डोमेन अथॉरिटी के हाई होने से इस बात पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है कि आपका कंटेंट सर्च रिजल्ट में प्रायोरिटी प्राप्त करेगा। गूगल सर्च रिजल्ट एल्गोरिथ्म 100+ एल्गोरिथम्स के आधार पर अपना रिजल्ट तय करता है जिसकी वजह से कोई भी एग्जैक्टेक कारण नहीं बता सकता लेकिन कुछ Predictions किया जा सकता है।

3. डोमेन अथॉरिटी को बदलना आसान नहीं है इसे आप Instantly नहीं बदल सकते है इसके लिए आपको लगातार कई महीनों तक काम करने की जरूरत परती है।

4. साइट का DA Score Logarithmic Scale के आधार पर बदलता है। इसका मतलब यह है की आपको अपने निचले स्कोर जैसे की 20 से 30 पर पहुंचना आसान है जबकि इसके उच्च स्कोर जैसे की 60 से 70 पर पहुंचना कठिन है।

5. यह स्कोर Frequently रूप से बदलने वाला स्कोर है तो इसे आप वेबसाइट की SEO Performance को Evaluate करने के लिए DA अथॉरिटी स्कोर मीट्रिक का उपयोग सही नहीं होता है।

6. डोमेन अथॉरिटी स्कोर मूल रूप से Domain Comparison Purposes के लिए सही होता है।

7. Moz, Ahref, Websiteseochecker सबसे पॉपुलर डोमेन अथॉरिटी स्कोर चेकर टूल्स है।

 

इसे भी पढ़े: 19 Best Useful Blogging Tools You Need to Use in Hindi

 

Domain Authority Kaise Calculate Karte Hai

जाना माना ऑनलाइन टूल Moz.com साइट की डोमेन अथॉरिटी स्कोर कैलकुलेट करने के लिए लगभग 40+ फैक्टर देखता है जैसे की:

1. कितने तरह के लिंक आपके वेबसाइट पर पहुंच रहे है जितनी बेहतर incoming links की क्वालिटी होगी आपके साइट की प्राथमिकता उतनी ही बढ़ेगी।

2. उच्च क्वालिटी लिंक ही गिना जाता है निम्न क्वालिटी का लिंक हेल्पफुल नहीं होता है।

3. साइट की कंटेंट जितनी अच्छी होगी उस साइट की डोमेन अथॉरिटी बढ़ने के चांस उतने ही ज्यादा होते है।

4. कंटेंट की ऑप्टिमाइजेशन भी बहुत कुछ मैटर करता है।

5. Social Signals भी आपके साइट के डोमेन अथॉरिटी स्कोर के लिए सहायक होता है।

6. गूगल सर्च रिजल्ट में जितना ज्यादा कंटेंट रैंक करेगा उतना ही बेहतर डोमेन अथॉरिटी स्कोर होने के चान्सेस होते है।

 

Site के Domain Authority को कैसे Improve करें?

 

1. High Quality Link building करें।

साइट की इनकमिंग लिंक जितनी ज्यादा बेहतर होगी उतनी ही डोमेन अथॉरिटी के बढ़ने के चांस होते हैं। तरह तरह के उच्च क्वालिटी वाले वेबसाइट से बैकलिंक बढ़ाने की जरूरत होती है।

उच्च क्वालिटी वाले वेबसाइट से ही लिंक बिल्डिंग करे, कम स्कोर वाले साइट से लिंक बिल्डिंग नेगेटिव इम्प्रैशन छोड़ते है जो आपके साइट के अथॉरिटी स्कोर के लिए अच्छा नहीं होता है।

Backlink Kaise Banaye:

मजबूत बैकलिंक बनाने के लिए सबसे बेहतर 6 टिप्स जिसे अजमाकर कोई भी अपने वेबसाइट की डोमेन अथॉरिटी स्कोर को इम्प्रूव कर सकता है।

6 tips for High-Quality Backlinks in Hindi

  1. वेबसाइट पर उच्च क्वालिटी कंटेंट पर फोकस करे।
  2. अपनी केटेगरी से रिलेटेड उच्च क्वालिटी के वेबसाइट पर Guest post लिखे।
  3. सभी सोशल नेटवर्किंग साइट पर अपने डोमेन नाम से प्रोफाइल id बनाये और उसके बायो में डोमेन यूआरएल जोड़े और नियमित रूप से कंटेंट पोस्ट करे।
  4. समान केटेगरी में अन्य बेस्ट वेबसाइट की लिस्ट निकाले और उनके बैकलिंक्स का पता लगाकर उस तरीको को फॉलो करे।
  5. सोशल फोरम जैसे की Quora.com, stackoverflow.com आदि पर उत्तर लिखे और लिंक ऐड करे।
  6. Medium.com , Entrepreneur.com आदि पर ब्लॉग लिखे और अपने वेबसाइट की रेलेवेंट लिंक ऐड करे।

 

2. उच्च क्वालिटी का कंटेंट लिखे

क्वालिटी कंटेंट किसी भी वेबसाइट की डोमेन अथॉरिटी सॉरी को बढ़ाने में बहुत ही अहम रोल निभाता है। जितना ही ग्रेट कंटेंट आप अपनी वेबसाइट पर पब्लिश करेंगे वह लिंक उतना ही उच्च क्वालिटी का बैकलिंक लाने में आपकी मदद करता है।

High-Quality Backlinks Kaise Banaye

अगर किसी रीडर्स को आपका पोस्ट कंटेंट हेल्पफुल लगता है तो वह आपके कंटेंट को कई तरह के दूसरे प्लेटफार्म पर भी शेयर करते है और यह आपके वेबसाइट के बैकलिंक को बढ़ाने का चांस बढ़ाता है।

यह उच्च क्वालिटी कंटेंट High-Authority Websites से बैकलिंक प्राप्त करने का सबसे बेहतर जरिया बनता है जैसे कि एजुकेशन इंस्टीट्यूट, गवर्नमेंट बॉडीज इत्यादि।

जब आपको इस तरह के अच्छे-अच्छे डोमेन से बैकलिंक्स मिलेंगे तो आपके डोमेन को एक बूस्ट मिलेगा और आपकी डोमेन अथॉरिटी को बढ़ाने के लिए काफी अहम योगदान प्राप्त होता है।

  1. Quality Content Publish लिखे।
  2. सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर शेयर करने वाले कंटेंट लिखे।
  3. समान केटेगरी के वेबसाइट पर Guest Post लिखे।
  4. ऑनलाइन स्लाइड शेयर करने वेबसाइट जैसे की slideshare.net, Google Slide आदि पर कंटेंट बनाकर शेयर करे।
  5. Social Networking Website अपने वेबसाइट के डोमेन नाम से प्रोफाइल बनाये।

आप कई तरह से क्वालिटी कंटेंट बना सकते हैं जैसे कि आर्टिकल, lengthy guides, videos, infographics, podcasts, slides, आदि।

अपने साइट पर सबसे पॉपुलर कंटेंट के आधार पर सिमिलर और भी पोस्ट तैयार कर सकते हैं।

Popular Page Domain Authority kam Karta hai

 

3. Site को ऑडिट करे और Bad Links को Remove करे

अपनी वेबसाइट को नियमित अंतराल पर एनालिसिस करते रहें और यह चेक करते रहे कि अगर कोई खराब लिंक है तो उसको रिमूव करें।

साइट में इंटरनल बैड लिंक, पॉर्नोग्राफिक वेबसाइट लिंक, लो क्वालिटी कंटेंट वेबसाइट से बैकलिंक या spammy लिंक डोमेन अथॉरिटी स्कोर को खराब करने के लिए काफी हद तक जिम्मेदार होते हैं।

किसी भी प्रकार के ब्रोकन लिंक आपके वेबसाइट में ऐड है या कोई खराब लिंक भी ऐड कर रखा है तो वह साइट अथॉरिटी स्कोर को नुकसान पहुंचाता है।

इस तरह से अपने वेबसाइट में अनवांटेड लिंक से बचने के लिए अपने साइट को बार-बार ऑडिट करते रहे और टॉक्सिक लिंक को पहचाने और रिमूव करे।

Domain Authority Badhaye

Google Search Console

टॉक्सिक लिंक या अनवांटेड लिंक्स को अपने वेबसाइट से रिमूव करने के लिए गूगल सर्च कंसोल का सहारा ले सकते है है और उसे disallow या इग्नोर कर सकते हैं।

 

4. On Page SEO पर ध्यान दे।

साइट का पेज कंटेंट का सर्च इंजन के अनुसार ऑप्टिमाइज़ करना जरुरी होता है। जब भी आप कंटेंट लिखे तो उस पेज का कंटेंट अच्छी तरह से ऑप्टिमाइज करें। किसी साइट का पेज कंटेंट को ऑप्टिमाइज करना ही ऑन पेज ऑप्टिमाइजेशन कहलाता है।

पेज के कंटेंट को ऑप्टिमाइज़ करने के दौरान कुछ फैक्टर्स ध्यान में रखने होते हैं कि जैसे की:

Targeted keyword: जिस किसी टार्गेटेड कीवर्ड पर आप ट्रैफिक लाना चाहते है।

उसे अच्छी तरह से ऑप्टीमाइज़्ड तरीके से अपने पेज कंटेंट में उपयोग करें। पोस्ट कंटेंट मुख्य तौर पर जिस कीवर्ड को टारगेट कर रहा होता है उसे न तो ज्यादा ऑप्टीमाइज़्ड करना होता है न उसे नजरंअदाज करना होता है।

Page Title & Description: पोस्ट के लिए अट्रैक्टिव टाइटल और ऑप्टीमाइज़्ड डिस्क्रिप्शन का ऐड करना भी जरुरी होता है। फोकस कीवर्ड दोनों ही जगह इस्तेमाल करना होता है।

Image optimization: इमेज का ऑल्ट टैग उसकी डिस्क्रिप्शन कैप्शन आदि ठीक से लिखे। ज्यादा साइज का इमेज इस्तेमाल न करे। अपने इमेज को अच्छी तरह से ऑप्टिमाइज़ कर के ही पोस्ट में अपलोड करे।

 

इसे भी पढ़े: How to Do Keyword Research & Free Tools in Hindi

 

5. पोस्ट कंटेंट में Internal Linking करें

पेज कंटेंट में Internal linking की वजह से आपके वेबसाइट का बाउंस रेट कम होता है और भी कई सारे फायदे होते है जिसकी वजह से Domain Authority स्कोर को इम्प्रूव करने में मदद मिलती है।

गूगल सर्च इंजन का अल्गोरिथम कई फैक्टर पर आधारित होता है जिसमे आपके साइट का पेज कंटेंट अच्छी तरह से इंटरलिंकेड होने से गूगल उसे इन्फोर्मटिवे कंटेंट में कंसीडर करता है और अच्छे से क्रॉल भी होता है।

अनावश्यक इंटरलिंक से बचे केवल रेलेवेंट इंटरलिंकिंग ही करे।

 

6. Website का Structure User Friendly रखे

वेबसाइट डोमेन अथॉरिटी कैलकुलेट करने में एक फैक्टर साइट का यूजर फ्रेंड्लीनेस होना भी होता है। वेबसाइट का प्रॉपर स्ट्रक्चर उसके पेज कंटेंट को सर्च इंजन में क्रॉल करने में मददगार होता है।

अगर आपका वेबसाइट वर्डप्रेस में है तो गूगल सर्च इंजन क्रॉलर्स की मदद लेकर एक साइटमैप तैयार करे जहा साइट के सारे महत्वपूर्ण यूआरएल मौजूद रहेंगे।

इस sitemap.xml फाइल को सर्च इंजन में सबमिट करे जिस से गूगल को आपके वेबसाइट कंटेंट को नेविगेट करने में आसानी होती है।

साइट को दोनों ही तरह के डिवाइस में चेक करे। मोबाइल डिवाइस और डेस्कटॉप के अनुसार टेस्ट करे।

वेबसाइट यूआरएल के सिक्योर सॉकेट लेयर (SSL) का होना भी बहुत जरुरी होता है जिस से यूजर एक्सपेरिएंस भी बढ़ता है और यूजर को ट्रस्ट भी आपके वेबसाइट के प्रति बिल्ड होता है।

 

7. साइट की Loading Speed सही रखे।

किसी भी साइट को लोड होने में यदि तीन सेकंड से ज्यादा समय लगता है तो 50% यूजर उसी वक्त आपके वेबसाइट को छोर कर चले जाते है और यह Bounce Rate Badhne Ka Sabse Bada Karan होता है।

अपनी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड चेक करने के लिए PageSpeed Insights और GTmetrix ऑनलाइन फ्री टूल का उपयोग कर सकते है।

Website ki Loading Speed Kaise badhaye

1. साइट की PHP, MySql डेटाबेस आदि को upgrade करें।

2. पोस्ट कंटेंट में हमेशा Optimized इमेज का ही इस्तेमाल करें।

3. कभी भी वेबसाइट में दस से ज्यादा प्लगइन का इतेमाल न करे।

4. अत्यधिक इमेज का इस्तेमाल न करे।

5. CSS and JS Files को Minify करें।

6. वेबसाइट में सर्वर पर Cache बनाने के लिए plugin उपयोग करें।

7. शेयर्ड होस्टिंग से क्लाउड होस्टिंग पर शिफ्ट करे। शुरुवाती दौर में क्लाउड होस्टिंग पर न जाए।

 

8. पोस्ट कंटेंट की संख्या बढ़ाये

साइट पर जितना ज्यादा कंटेंट पब्लिश करे आपके डोमेन अथॉरिटी स्कोर के अच्छे होने के चांस उतने ही अधिक होंगे।
कंटेंट अधिक होने से आपके पास वाइड रेंज होता है जहा से आप अधिक अधिक विजिटर तक पहुंच सकते है।

नियमित रूप से कंटेंट पब्लिश करने से सर्च क्रॉलर अल्गोरिथम को आपके साइट के अपडेटेड रहने के बारे में पता चलता है जिस से सर्च इंजन वेबसाइट कंटेंट को प्राथमिकता देता है।

 

9. Keep Updated Site Old Content

एक नियमित अंतराल पर अपने पुराने पोस्ट कंटेंट को अपडेट करते रहे।

जब कोई पुराना कंटेंट अपडेट करते है तो सर्च बोट्स को लगता है की आपका इन्फर्मेशन अपडेटेड है और उसे प्राथमिकता देता है। इस तरह से अपने पुराने पोस्ट कंटेंट को अपडेट कर साइट पर ट्रैफिक बढ़ा सकते है।

 

10. Device Friendly Website बनाये

यूजर के डिवाइस के अनुसार साइट का फ्रेंडली होना यूजर एक्सपेरिएंस को बेहतर बनाता है। किसी भी वेबसाइट का डिवाइस फ्रेंडली होना मोबाइल के इस दौर में काफी अहम हो गया है।

अगर आपका साइट रेस्पॉन्सिव नहीं है और डिफरेंट डिफरेंट स्क्रीन में ऑटो एडजेस्ट नहीं हो जाता है तो फिर आपको इस पर ध्यान देने की जरूरत है।

दिन प्रतिदिन Mobile Users की संख्या बढ़ती ही जा रही है। आजकल ज्यादा सर्च मोबाइल डिवाइस के द्वारा किए जा रहे हैं ऐसे में अगर आपको बेहतर रिजल्ट प्राप्त करना है अपने वेबसाइट पर बेहतर ट्रैफिक प्राप्त करना है तो उसके लिए साइट को Mobile Friendly होना जरूरी है।

साइट की डिफरेंट डिफरेंट डिवाइस पर चेक करने के लिए ऑनलाइन तुल का उपयोग कर सकते है की आपका साइट अलग अलग डिवाइस में कैसा दीखता है।

 

11. अनावश्यक लिंकिंग ना करें

जब आप पोस्ट लिखते हैं तो आपको लिंक ऐड करने की जरूरत होती है ऐसे में कई बार हम अनावश्यक लिंकिंग भी कर देते है जो यूजर एक्सपीरियंस को खराब करता है।

कभी भी लिंक ऑप्टिमाइज़ तरीके से ही ऐड करें। रिलेवेंट कीवर्ड पर लिंक ऐड करें।

लिंक ऐड करने के लिए सबसे बेहतर तरीका यह है कि आप कुछ सुझाए गए आर्टिकल की हैडिंग देकर आर्टिकल का लिंक ऐड करे अथवा Related Posts हेडिंग देकर नीचे कुछ आर्टिकल ऐड कर सकते हैं या दोनों ही उपयोग कर सकते है लेकिन अत्यधिक लिंकिंग न करे।

 

12. पुराना डोमेन का Domain Authority Score ज्यादा अच्छा होता है

डोमन जितना ज्यादा पुराना होता है उस डोमेन की अथॉरिटी स्कोर बढ़ने के चांस उतने ही ज्यादा बढ़ते हैं।

जब हम कोई नया डोमेन खरीदते हैं तो उस वक्त उसकी अथॉरिटी बिल्कुल जीरो होती है ऐसे में हमें उस डोमेन पर काफी मेहनत करने की जरूरत पड़ती है।

अगर आपका वेबसाइट डोमेन नया है तो आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है अपने साइट पर लगातार काम करैत रहे और इंतजार करते रहे कुछ समय गुजरने दे आपको बेहतर रिजल्ट देखने को मिलेगा।

 

13. Site में SSL Certificate ऐड करे

जो वेबसाइट HTTP में होता है उसका डोमेन अथॉरिटी ज्यादा बेहतर नहीं हो सकता। डोमेन अथॉरिटी को बेहतर करने के लिए जरूरी है कि आपका वेबसाइट सिक्योर सॉकेट लेयर के द्वारा covered किया गया हो। हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकोल सिक्योर(Hypertext Transfer Protocol Secure) के माध्यम से अपने वेबसाइट डोमेन को जोड़े।

अगर आपके वेबसाइट में SSL Certificate नहीं है तो https नहीं दिखेगा ऐसे में आपको SSL सर्टिफिकेट खरीदने पड़ेंगे और उसे डोमेन में इंस्टॉल करना पड़ेगा।

 

Conclusion: Domain Authority Score

डोमिन अथॉरिटी कुछ सप्ताह में नहीं बढ़ता है इसके लिए आपको काफी धैर्य के साथ काम करना पड़ता है। एक High Domain Authority Score को प्राप्त करने के लिए कई बार सालों लग जाते हैं। यह एक Continuous Effort के द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है।

ऐसे में आपको ऊपर बताए गए बिंदुओं पर लगातार काम करते रहने की जरूरत पड़ती है।

 

Recommended Posts:

How to Earn Money Online: 17 Proven Ways to Earn

31 Easy & Smart Ways for Money Saving Tips in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.