Skip to content

Constipation Symptoms Kya Hai: कारण, लक्षण तथा घरेलू उपचार

अधिकतर लोग जब सुबह शौच के लिए जाते हैं तो उनका पेट सही से साफ नहीं होता है ऐसे में उनकी अक्सर शिकायत रहती है कि उनका पेट सही से साफ नहीं हो रहा है जिसकी वजह से पूरा दिन खराब होता है और वह अपने काम में मन नहीं लगा पाते हैं। इस तरह के लक्षण Constipation Symptoms होता है।

Constipation की वजह से दूसरी अन्य बीमारियां भी घेरने लगती है जिसमें सबसे प्रमुख बीमारी है कब्ज की समस्या।

कब्ज होने की सबसे प्रमुख वजह है शरीर में पानी की कमी होना, पर्याप्त शारीरिक गतिविधि का ना होना या भोजन में फाइबर की कमी की वजह से भी कब्ज की समस्या उत्पन्न होने लगती है।

रात रात को देर देर रात तक जगना, पर्याप्त नींद न लेना या भोजन में तत्वों की कमी की वजह से भी कब्ज की होता है।

 

Constipation Kya Hai in Hindi

कॉन्स्टिपेशन एक बहुत ही आम समस्या है। हमारे खराब खान पान की वजह से उत्पन्न होता है। शरीर में पानी की कमी और खाद्य पदार्थो में फाइबर की कमी से मनुष्य की मांसपेशियां संक्रमित हो जाती है और भोजन को सही से बचा नहीं पाती है उसके उपरांत जब हम मल त्याग करते हैं तो मल सूखा सूखा हो जाता है और सही से बाहर निकलता है तो यह Constipation Problem के नाम से जानी जाती है।

कॉन्स्टिपेशन को हिंदी में कब्ज भी कहते हैं। जब शरीर में अपशिष्ट पदार्थ बड़ी आंत तक पहुंचने से पहले ही कठोर हो जाता है और वह बाहर निकलने के बजाय आंत में ही चिपका रह जाता है जिसकी वजह से कब्ज उत्पन्न होता है।

 

Kabj Ke Karan Hone Wale Rog

कब्ज की समस्या में हमारा पाचन तंत्र सही से काम नहीं करता है। ऐसी स्थिति में हमारे मल त्याग करने के समय काफी जोर लगाना परता है जिसकी वजह से दूसरी अन्य बीमारियां भी पैदा होने लगती है।

अगर लंबे समय तक कब्ज की बीमारी रहती है तो इससे उत्पन्न होने वाली कई सारी बीमारियां है जो मैं नीचे बता रहा हूं।

मन में सुस्ती छाना

जब हमारा पाचन तंत्र सही से काम नहीं कर रहा होता है और मल का त्याग पूर्ण रूप से नहीं होता है तो मन में सुस्ती छाने लगती है और नींद आने लगता है।

अगर दिन में ज्यादा नींद आने की समस्या से परेशान है तो इसका सबसे बड़ा कारन यह भी हो सकता है कि आपका मॉल सही से त्याग नहीं हो रहा है।

शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव – Adverse Effects on The Body

कब्ज की वजह से Digestive System सही से काम नहीं कर रहा होता है और जब Digestive System सही तरिके से काम नहीं करता है तो सिरदर्द होने लगता है, पेट में गैस भी बनता है, जब कहना पचेगा अनहि तो भूख भी कम लगने लगता है जिसकी वजह से जरुरी पोसक तत्व शरीर को नहीं मिल पात है और कमजोरी महसूस होने लगता है।

इसके अल्वा भी अन्य बीमारिया होती है जैसे की जी-मिचलाना, चेहरे पर मुंहासे निकलना, काले दाग उत्पन्न होना आदि।

मल के त्याग ठीक से नहीं होने पर पेट में भारीपन भी महसूस होता है, मुंह से बदबू भी आने का सबसे बड़ा कारन होता है की पाचन तंत्र का ठीक से काम नहीं करना।

मल त्याग करते वक्त रोजाना अधिक जोर लगान पर रहा है तो आपको हर्निया जैसी गंभीर बीमारी भी होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

कब्ज के कारन मानसिक प्रभाव – Mental Effects of Constipation in Hindi

अगर मल का त्याग सही से नहीं होता है तो आकर नींद आती रहती है और दिन भर उबासी आती रहेगी। आपका मन बेबजह ही उदास रहेगा और एक लम्बी नींद की समस्या हर वक्त बनी रहेगी।

प्रायः जब नींद पूरी नहीं होती है तो किसी भी काम कप करने में मन भी नहीं लगता है जिसकी वजह से कई सारे और भी बीमारिया जन्म लेने लगती है।

कब्ज के करना हमारे शरीर में सेरोटोनिन नामक हार्मोन का श्राव कम होने लगता है जो की मन को खुश रखने के लिए जरुरी होता है।

कई बार तो नींद की कमी से अत्यधिक चिंता होने लगती है, किसी न किसी काम का तनाव भी रहने लगता है और आपका जीवन अवसाद ग्रस्त होने लगता है फिर मधुमेह की भी समस्या शुरू हो जाती हैं।

 

इसे भी पढ़े: Diet Plan for Heart Patients: हृदय रोगी कैसा डाइट प्लान फॉलो करे ?

 

पेट साफ न होने के कारण

Pet Saaf na Hone Ke Karan कई कारकों पर निर्भर करता है जब हमारा प्रतिदिन का रूटीन गड़बड़ हो जाता है तो पेट साफ ना होने का कारण बनता है।

जब हम सुबह सुबह शौच के लिए जाते हैं तो हमारा पेट साफ नहीं होता है इसके सबसे प्रमुख कारणों को जानकर आप भी सतर्क हो सकते हैं और अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दे सकते हैं।

Top 15 Causes of Constipation in Hindi

  1. पर्याप्त मात्रा में शरीर में पानी का न होना।
  2. शारीरिक गतिवधि का पर्याप्त न होना।
  3. भोजन में फाइबर का पर्याप्त न होना।
  4. रात में देर देर तक जागना और पर्याप्त नींद न लेना।
  5. दैनिक रूटीन का पालन न करना।
  6. भोज्य पदार्थो में कम रेशायुक्त आइटम का होना या न होना।
  7. शारीरिक जरूरत से कम भोजन ग्रहण करना
  8. दिन भर बेड पर लेते रहना और सोते रहना।
  9. सिन भर कंप्यूटर के सामने बैठे रहना और पर्याप्त ब्रेक न लेना।
  10. शरीर में Drugs का Excessive Release।
  11. शरीर में जरुरी Thyroid Hormone का न बनना या कम बनना
  12. कैल्सियम युक्त खाद्य पदार्थ (calcium-rich foods) का सेवन कम करना।
  13. शरीर में पोटैशियम की कमी की वजह भी कब्ज का कारन बनता है।
  14. किसी भी तरह की पाचन संबंधी समस्या (Digestive Problem) का होना।
  15. शरीर में Caffeine की मात्रा का अधिक होना।
  16. चाय, तम्बाकू, गुटखा, धूम्रपान, शराब पीना आदि का सेवन भी कब्ज का कारन बनता है।
  17. अत्यधिक व्रत रखना या उपवास रहना।
  18. भोजन को चबा चबा का कर न खाना।

 

कब्ज के सबसे प्रमुख लक्षण – Major Constipation Symptoms in Hindi

जब किसी बीमारी के लक्षण हमें पता होते हैं तो उसका उपचार करने में भी मदद मिलता है उसी तरह से हम आज कब्ज के सबसे प्रमुख लक्षणों की बात करेंगे।

कब्ज के सबसे प्रमुख लक्षणों जो समान्तयः देखने को मिलते है उसके आधार पर लिस्ट तैयार की गई है इनमें से अगर कोई सा भी कारण आपके अंदर दिखता है तो आपको तुरंत इसका उपचार करने की जरूरत है।

आइए जानते हैं कि कब्ज होने के सबसे प्रमुख लक्षण कौन-कौन से हैं।

  1. Kabj ke Pramukh Lakshan Hai सांस छोड़ते वक्त उसमे दुर्गन्ध का आना। सबसे प्रमुख लक्षणों में से एक है Smell of Breath in Constipation.
  2. हर वक्त नाक से पानी का गिरते रहना।
  3. समय पर भूख न लगना या भूख में कमी का आना।
  4. कब्ज से पीड़ित रोगियों में Headache का शिकायत बहुत ही सामान्य है।
  5. बेवजह शरीर का चकराना या चक्कर आना।
  6. जिन लोगों को कब्ज होती है उन्हें अक्सर जी मितलाने की भी शिकायत रहती है।
  7. कब्ज के कारण पेट में गैस बनते हैं जिसकी वजह से चेहरे पर फुंसी आ जाती है या दाने निकलने लगते हैं।
  8. मुंह में Ulcer का होना भी सबसे प्रमुख लक्षण है।
  9. शौच करते वक्त अतिरिक्त प्रेशर देने पर भी सोच का न निकलना।
  10. पेट में हल्का हल्का दर्द का महसूस होते रहना।
  11. मल का बिल्कुल ही सूखा हो जाना और कठोर होना।
  12. नियमित शौच करते वक्त भी दर्द महसूस होना।
  13. चेहरे पर छोटे छोटे दाने निकलना यह भी प्रमुख लक्षण है।

 

इसे भी पढ़े: Blood Pressure Control: ब्लड प्रेशर (रक्तचाप) को कैसे नियंत्रित करे ?

 

Home Remedies for Constipation Problem in Hindi

कॉन्स्टिपेशन की समस्या का समाधान करना बहुत जरूरी है। कब्ज की समस्या का समाधान करने का कुछ घरेलू उपाय निम्नलिखित है।

constipation symptoms and Home Remedies

1. भोजन करते वक्त पर्याप्त फाइबर युक्त पदार्थों का सेवन करना।

जब भी भोजन करें इस बात का ध्यान रखें कि आप जो भी चीजें खा रहे हैं उसमे फाइबर युक्त चीजें है या नहीं है। यह आपकी पेट से जुड़ी 20% – 30% समस्याओं का समाधान कर देता है। खानपान का सही होना किसी भी तरह के पेट से जुड़ी समस्या को तुरंत सॉल्व करता है।

2. Eat Fresh Fruits

ताजे फलों का सेवन करना जैसे अमरूद आम पपीता आदि ऐसे प्रार्थना है जिनमें फाइबर पर्याप्त मात्रा में होता है और आपके पेट से जुड़ी समस्याओं का तुरंत समाधान करते हैं।

3. पर्याप्त पानी पीयें

नियमित रूप से 3 लीटर पानी पीना शरीर के लिए जरूरी होता है हालांकि सर्दियों के मौसम में शरीर में पानी की जरूरत थोड़ी कम होती है मगर फिर भी आपके शरीर को प्रतिदिन 3 लीटर पानी की खपत की जरूरत होती है जिसकी पूर्ति करते रहना जरूरी होता है।

अगर आप Constipation की समस्या का समाधान करना चाहते हैं तो उसके लिए नियमित रूप से पर्याप्त मात्रा में पानी पिए।

4. बेल का जूस पिए

बेल गर्मी के मौसम में काफी फायदेमंद होता है। बेल का जूस पीने से उसमें मौजूद फाइबर भोजन को सही से डाइजेस्ट करने में मदद करते हैं और आपको कब्ज से जुड़ी समस्या का तुरंत निवारण मिलता है।

बेल का शरबत दोपहर में ले सकते हैं, शाम को भी ले सकते हैं। भोजन करने के एक घंटे पहले ले सकते हैं और यह और यह बहुत फायदेमंद साबित होता है।

5. जीरा और अजवाइन पाउडर

जीरा और अजवाइन को हल्का आंच पर भून ले और उसको पाउडर बना लें फिर उसमें काला नमक मिलाकर शरबत तैयार करें।

रोजाना आधे चम्मच की मात्रा ले और एक ग्लास पानी में मिलाकर शरबत बनाये और उसका सेवन करें यह आपके कब्ज को दूर करने का सबसे रामबाण तरीका है।

6. खाना खाने के बाद सौंफ का सेवन करे

खाना खाने के बाद एक चम्मच सौंफ में दो चार चीनी के कुछ दाने मिलाकर सेवन कर सकते हैं या सौंफ को हल्की धीमी आंच पर भून कर उसका पाउडर तैयार करके उसका शरबत बनाकर पी सकते हैं। दोनों ही तरीके कारगर है और आपकी कब से जुड़ी समस्या से राहत दिलाते हैं।

7. पालक के पत्ते से साथ दाल बनाकर खाये

पालक के पत्ते को दाल में मिलाकर फिर दाल बनाए या पालक के पत्ते की सब्जी बनाएं उसमें आलू या कोई और आइटम मिलाकर भी उसका सब्जी तैयार कर सकते हैं।

पालक के पत्ते में फाइबर पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है और यह आपकी भोजन को पचाने में काफी मदद करता है।
पालक के पत्तो से आपके आंखों की रोशनी भी बढ़ती है और साथ में अन्य विटामिन भी मिलते हैं जैसे विटामिन ए विटामिन ए का भी प्रचुर सोर्स है।

8. सब्जिया जरूर खाये

भोजन तैयार करते वक्त इस बात का ध्यान रखे की आपके थाली में कुछ सब्जिया जैसे की पत्तागोभी, गाजर, ब्रोकली और पालक आदि हरी पत्तेदार सब्जियों मौजूद हो, यह आपके भोजन को सही ढंग से पचने के लिए सहायत करते है और कब्ज से दूर भगाते है।

9. नारंगी का सेवन करे

नारंगी में पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होता है जो कि आपके भोजन को उपयुक्त तरीके से पचाने में मदद करता है तो रोजाना खाना खाने के बाद 1 घंटे बाद आप एक नारंगी का सेवन कर सकते हैं।

अगर हो सके तो नारंगी का जूस पिए दोनों ही तरीके कारगर है।

10. टमाटर का इस्तेमाल सलाद में करे

कब्‍ज को दूर करने के लिए टमाटर का इस्तेमाल सब्जी के रूप में करे या सलाद के रूप में दोनों ही तरिके कारगर होते है।

टमाटर में मौजूद तत्व आपके अमाश्‍य आँतों में जमा मल पदार्थ नि‍कालने में काफी मदद करता है और जरुरी मिनरल्स को भी पूर्ति करता है।

11. निम्बू पानी पिए

नींबू हमारे शरीर के लिए एंटीबायोटिक का काम करता है अगर खाना खाने के बाद एक गिलास पानी में नींबू निचोड़ कर पिया जाए तो यह खाना को सही तरीके से पचाने में सहायक होता है।

नींबू में मौजूद खट्टा पदार्थ हमारे शरीर के पाचन तंत्र के लिए बहुत ही उपयुक्त होता है अतः कब्ज को दूर करने के लिए आप यह तरीका जमा सकते हैं।

 

निष्कर्ष

कब्ज एक बहुत ही गंभीर समस्या है इसको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। क्युकी कब्ज से और भी बहुत सारी गंभीर बीमारियां उत्पन्न होने लगती है। तो कब्ज से बचने के लिए उन लक्षण को पहचाने और उसका तुंरत उपचार करे आप ऊपर बताए गए कब्ज के घरेलु उपचार के तरीको को आजमाकर भी इसका इलाज कर सकते हैं।

 

सुझाये गए पोस्ट्स:

Home Remedies for Oily Skin: तैलीय त्वचा का घरेलू इलाज क्या है ?

पेट में गैस बनने का कारण: पेट में गैस बनने के कारण तथा उपाय

 

References:

wikipedia.org

Hemant Singh Fitness Tips

Leave a Reply

Your email address will not be published.