Get Rid of Snoring: खर्राटे के कारण तथा घरेलु इलाज के उपाय क्या है ?

कई लोग को सोते समय खर्राटे लेने की आदत होती है जिसकी वजह से आवाज काफी होता है। साथ में सोने वाले लोगो को काफी तकलीफे होती है। या अगर पति पत्नी में किसी एक को भी इसकी समस्या है तो किसी दूसरे को उससे तकलीफ होती है या समस्या पैदा होती हैं।
जिस वजह से साथ सोने वाले लोगो की नींद पूरी नहीं हो पाती। आगे हम ये जानेगे की कैसे खर्राटा से छुटकारा (Get Rid of Snoring in Hindi) पा सकते है।

खर्राटे लेने की समस्या एक गंभीर बीमारी है इसका इलाज करना जरूरी है नहीं तो इससे रिश्ते भी कई बार ख़राब हो जाते है। आइये जानते हैं कि खर्राटे लेने की मुख्य वजह क्या है ?किन किन वजहों से व्यक्ति सोते वक्त खर्राटे लेने लगता हैं। खर्राटे का घरेलू उपचार (Snoring Home Remedies) क्या-क्या हो सकते हैं ? कैसे हम इसको दूर कर सकते हैं ?

 

Index hide

खर्राटे क्यों आते हैं (why Do You Snore While Sleeping in Hindi)

खर्राटे क्यों आते है (kharate kyu aate hain) ? इसका वैज्ञानिक कारण यह है की जब हम सोते है तो सोते वक्त हमारे शरीर को आराम पहुँचता है। इस वक्त हमारे शरीर के मांशपेशियों को आराम पहुंचने के लिए सारे मांशपेशियों ढ़ीला पर जाते है। जिसकी वजह से मुँह, जीभ गले आदि की मांशपेशियों में संकुचन पैदा होता है और जब हम साँस लेते है तो उसमे रूकावट पैदा होती है। सोते वक्त श्वशन नली में रूकावट पैदा होने की वजह जब हवा का बहाव ऊतकों में कंपन पैदा करता है और इस प्रक्रिया में आवाज निकलती है। जो खर्राटे की प्रमुख वजह (The Main Reason for Snoring) बनती है।

Get Rid of Snoring Problem

 

कम और तेज खर्राटों के कारण (Causes of Low And Loud Snoring in Hindi)

किसी व्यक्ति को खर्राटे के वक्त काफी कम आवाज (Low snoring) निकलती है और किसी किसी व्यक्ति की खर्राटे की आवाज काफी तेज (Snoring Loudly) होती है। इसका मुख्य कारन यह है की जिन व्यक्ति का श्वशन मार्ग सोते वक्त जितना संकुचित होगा उनके उत्तक कम्पन को उतना ही तेज करेगा और सोते वक्त उनकी खर्राटे की आवाज उतनी ही तेज होगी और जिनका श्वशन मार्ग सोते वक्त जितना कम संकुचित होगा उनके उत्तक कम्पन को उतना ही कम होगा और उनके खर्राटे की आवाज उतनी ही कम होगी।

 

खर्राटे आने के कारण (Causes of Snoring in Hindi)

खर्राटे आने के कई सारे कारण हो सकते हैं। उन सभी कारणों पर बारी बारी से नजर डालते है और जानते है की क्या कारण होते है।

वजन ज्यादा होना (Being Overweight Cause of Snoring )

अक्सर ऐसा देखा जाए कि जो लोग मोटे होते हैं उनकी गर्दन के आसपास अतरिक्त चर्बी जमा होती हैं। जिसकी वजह से सोते वक्त श्वशन मार्ग जाम हो जाते हैं और फिर सोते वक्त उनको सांस लेने में तकलीफ होती है। खराटे की समस्या से अगर आप भी जूझ रहे है तो सबसे पहले आप अपना वजन कम करे।

हालांकि पतले लोग को भी खर्राटे की समस्या होती है मगर मोटापा भी एक कारन है सोते वक्त खर्राटे लेने की समस्या जैसी बीमारी में।

 

यह भी पढ़े:

Benefits of Yoga in Hindi: योग से होने वाले 9 फायदे क्या है ?

Weight Loss Diet: बिना जिम गए सिर्फ खानपान से वजन कैसे कम करें ?

 

गले की मांसपेशियों का कमजोर होना (Weakness of The Throat Muscles)

गले की मांसपेशियों का कमजोर होना खर्राटे आने का एक सबसे प्रमुख कारण है। जब हमारे गले की मांसपेशियां शांत, स्थिर हो जाती है या लटकने लगती है तो श्वसन नली में रुकावट पैदा होती है। कई बार यह अधिक अल्कोहल का सेवन करने से या नींद की गोलियां लेने से या किसी ऐसी दवाई का सेवन करने से जो आपके शरीर को सूट नहीं करते हैं वो एलर्जी पैदा करती है।

आमतौर पर उम्र ढलने के साथ यह समस्या ज्यादा देखि जाती है। इससे बचने के लिए आप नियमित तौर से एक्साइज कर सकते हैं।

नियमित व्यायाम करने से आपकी मांसपेशियों में खिंचाव आएगा और सांस लेने में रूकावट पैदा नहीं होगी और आप खर्राटे की समस्या से बच सकते हैं।

शराब की आदत (Alcohol Habit)

शराब की आदत जो लोग सोने से चार पांच घंटा पहले शराब पीते हैं उनको खर्राटे की समस्या हो सकती है। ऐसा कई बार देखा गया है कि जो लोग सोने से पहले शराब पी कर सोते हैं उनके श्वशन मार्ग जाम हो जाते हैं जिसकी वजह से उनको सांस लेने में तकलीफ होती है।

गलत अवस्था में सोना (Sleeping in The Wrong Position)

कई बार ऐसा देखा जाता है कि लोग सोते वक्त अपने पोजीशन का ख्याल नहीं रखते हैं। वह किसी पोजीशन में सो जाते हैं। इससे उनको सांस लेने में दिक्कत होती है। उनकी नाक के मार्ग जाम हो जाते है या ऊतकों में संकुचन पैदा होने लगता है जो कम्पन का कारन बनता है और फिर खर्राटे आने लगते है। जब आप सो रहे होते हैं उस वक्त आप इस बात का ख्याल जरूर रखे की आपकी नाक की श्वसन मार्ग जाम न हो।

नाक की बजाय मुंह से श्वास लेने की आदत (Habit of Mouth Breathing Instead of Nose)

जिन लोगो को सोते वक्त नाक के श्वास लेने की आदत नहीं होती है या नाक की वजाये मुंह से श्वास लेते हैं उनको खर्राटे की समस्या ज्यादा होती है। कोशिश करें कि जब भी सोए मुंह वजाये नाक से श्वास लेने की आदत डालें। इससे श्वशन मार्ग में संकुचन पैदा नहीं होती है और ऑक्सीजन का प्रवेश अच्छी तरह से आपके शरीर के अंदर होता है।

अगर सोते वक्त नाक जाम होने की समस्या से आप भी जूझ रहे हैं तो सोने से पहले आप गर्म पानी से नहाएंगे तो सोते वक्त श्वशन मार्ग को खुला रखने में मदद करता है।

तकिया का साफ न होना (Main Causes of Not Get Rid of Snoring)

कभी-कभी गंदे तकिया या बिस्तर का इस्तेमाल करने से भी खराटे आने लगती है। गंदे बिस्तरों पर या तकिया के ऊपर धूल कण जमा होते हैं जो एलर्जी का कारण बनते हैं। जिसकी वजह से नींद में श्वाश लेने की समस्या हो सकती है। इसलिए हर सप्ताह अपने गंदे बेडशीट और तकिया को धोये ये दूसरे साफ बीछावन और तकिया के कवर से जरूर बदलें।

अपने शरीर को हाइड्रेट रखें (Keep Your Body Hydrated for Get Rid of Snoring)

खर्राटे रोकने के लिए जो प्रमुख वजहों में से एक है वह है अपने आपको हमेशा हाइड्रेटेड रखना अगर आप अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखेंगे या आपने शरीर में पानी की कमी नहीं होने देंगे तो आपके तालु और नाक चिपचिपे नहीं बने रहेंगे।

जब आप सोते वक्त सांस लेंगे तो सांस लेने में कोई परेशानी नहीं होगी और आपका श्वशन नलिकाएं में कोई समस्या पैदा नहीं होगी। इसलिए खूब पानी पिए। अपने आपको हाइड्रेटेड बनाए रखें (Apne aap ko hydrate rakhe) और अपने शरीर में पानी की मात्रा को कम ना होने दें।

 

खर्राटे लेने की कुछ प्रमुख वजह निम्नलिखित है (Some of The Main Reasons for Snoring are:)

कई बार कफ की अधिकता की वजह से गले की मांस में वृद्धि होती है और सांस लेने वाले रास्ते में रुकावट उत्पन्न होता है, जिसकी वजह से लोग खर्राटे की समस्या से ग्रस्त हो जाते हैं।

सोने के गलत तरीकों से सांस की नली में रुकावट पैदा होती है और ऑक्सीजन सही तरीके से आपके शरीर के अंदर प्रवेश नहीं कर पाता है। जिससे वाइब्रेशन उत्पन्न होता है और उस वक्त खराटे का कारण बनती है।

नींद की गोलियां भी एलर्जी पैदा करती है। कई लोगों को नींद की गोलियां भी एलर्जी पैदा करती है जिसमें उनको श्वांस लेने में दिक्कत होती है और सोते वक्त उनके श्वशन नली में रुकावट पैदा होती है। और खर्राटे आने की समस्या उत्पन्न होने लगती है।

महिला तथा पुरुष की शारीरिक बनावट अलग-अलग होती है। पुरुषों की श्वास नलिकाएं थोड़ी संकरी होती है महिलाओं की तुलना में। इसलिए ऐसा देखा गया है कि पुरुष लोग महिलाओं की तुलना में ज्यादा खर्राटे की समस्या से ग्रस्त होते हैं।

जिन लोगों के गर्दन छोटे होते हैं या नाक टेढ़े होते हैं उनको भी सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जब वह सोते हैं तो उनके उत्तको में हवा के द्वारा कंपन उत्पन्न होने लगता है जिसकी वजह से खर्राटे की समस्या से ग्रस्त हो जाते हैं।

 

बच्चों में खर्राटों की समस्या (Problem of Snoring in Children in Hindi)

अक्सर ऐसा देखा जाता है की जो बच्चे छोटे होते हैं उनमें भी खराटे की समस्या होती है। छोटे बच्चों में खर्राटों की समस्या अक्सर कुछ प्रमुख वजह से होती है जैसे कि अगर बच्चों का टॉन्सिल बढ़ा हुआ है या उनकी जीभ मोटी है या उनको जुकाम हुआ है तब भी उनको सांस लेने में परेशानी होती है इसलिए वह खर्राटे की समस्या से ग्रस्त हो जाते हैं।

 

खर्राटों के घरेलू उपाय (Home Remedies for Snoring in Hindi)

खर्राटे बंद करने के घरेलू उपचार (Home Remedies to Stop Snoring) यहाँ दिए जा रहे है आप भी अपने दैनिक जीवन में ( Snoring Treatment in Hindi ) इनको अपनाकर आसानी से खर्राटों की समस्या (kharate ki samasya) से निजात पा सकते है।

पुदीना के पत्तों से खर्राटों का इलाज (Get Rid of Snoring With Peppermint Leaves)

दरअसल पुदीना के पत्तों में कई ऐसे तत्व होते हैं जो श्वसन मार्ग के सूजन को कम करने में सहायक होते हैं। जब हम सोते वक्त श्वसन मार्ग जाम होने की समस्या से जूझ रहे होते हैं उस वक्त यह काफी सहायता (pudina medicinal uses for snoring) करता है।

पुदीने की पत्तियों को 5 से 7 मिनट तक अच्छी तरह उबाल ले। जब पानी हल्का गुनगुना हो जाए तो फिर उसे छान ले और फिर उसको पिए। सप्ताह में चार बार पिए इससे खर्राटों की समस्या से छुटकारा आसानी से मिल जाता है।

खर्राटों की समस्या में पुदीना तेल (Peppermint Oil Remedy for Snoring) काफी उपयोगी है इसको पानी में मिलाकर गरारे भी कर सकते है। पेपरमिंट तेल अपने नथुने के अंदरूनी परत में लगाकर कुछ देर छोड़ दे ये झिल्ली में सूजन को कम करेगा। तथा खर्राटों को रोकने (kharate ki dawai) में काफी मदद करेगा।

 

खर्राटों की समस्या में दालचीनी (Dalchini Remedies in Get Rid of Snoring Problem)

वैसे तो दालचीनी के ढेरों फायदे हैं। मगर खर्राटों की समस्या (Snoring me dalchini ke fayde) से जूझ रहे व्यक्तियों के लिए भी दालचीनी का फायदेमंद है। इसके लिए आप एक गिलास गुनगुने पानी में दालचीनी पाउडर मिलाइए तथा उसका नियमित सेवन कीजिए इससे आपको काफी आराम मिलेगा(Get Rid of Snoring using by Dalchini)।

 

लहसुन से रुकेगा खर्राटा (Get Rid of Snoring By Garlic in Hindi)

लहसुन एंटीबायोटिक गुणों से भरपूर होता है। इस एंटीबायोटिक गुणों के कारन सांस लेने वाली नली की सूजन को कम करने में काफी सहायता प्रदान करता है।

श्वसन प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए और बेहतर बनाने के लिए लहसुन का प्रयोग कर सकते हैं। लहसुन से खर्राटों की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए इलाज में काफी मदद करता है। रोजाना एक या दो लहसुन की कली का सेवन आपको खर्राटों की समस्या से निजात दिलाने में मदद करता है।

 

हल्दी भी लाभदायक है खर्राटे की समस्या में (Turmeric: Get Rid of Snoring)

हल्दी औषधीय गुणों से भरपूर होता है। हल्दी में एंटीबायोटिक गुण होने की वजह से दूध के साथ इसका सेवन करने से खर्राटे की समस्या (Turmeric Benefits in Snoring Problem) में काफी लाभ मिलता है। रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध के साथ आधा चम्मच से भी कम हल्दी मिलाएं ज्यादा जाने से टेस्ट भी खराब हो जाएगा। थोड़ी देर बाद घुट घुट कर पिए इस से सोते वक्त काफी आराम मिलेगा और खराटे की समस्या से निजात मिलेगी।

Get Rid of Snoring Problem

 

दूध दिलाएगा खर्राटे की समस्या से छुटकारा (Milk Will Get Rid of Snoring Problem)

दूध का सेवन भी आपको खर्राटे की समस्या से छुटकारा दिला सकता है नियमित तौर से एक गिलास गर्म दूध आपके शरीर की बाकी जरूरते भी पूर्ति करेगा साथ साथ खर्राटे की समस्या से छुटकारा दिलाएगा।

 

इलायची दूर करता है खर्राटों की समस्या (Cardamom: Get Rid of Snoring in Hindi)

इलायची का सेवन भी खर्राटों की समस्या से निजात  ( Cardamom Eliminate Snoring Problem ) दिलाता है। रात को सोते समय कुछ दाने इलायची का लेकर उसको चबाये इसके बाद एक गिलास गुनगुने पानी पिए। इलायची आपके श्वसन प्रणाली को सुचारू रूप से काम करने में मदद करता है। श्वसन नली को सही रूप से खुले रखने में भी मदद करता है। सोने से आधे घंटे पहले अगर आप इसका सेवन करेंगे तो आपको इसका असर देखने को मिलेगा।

 

शहद का सेवन भी खर्राटे की समस्या में है लाभकारी (Honey Benefits in Snoring Problem in Hindi)

शहद का सेवन भी खर्राटे की समस्या में लाभकारी सिद्ध (Honey Get Rid of Snoring)होता है। शहद में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसका सेवन करने से आपको नाको की नली में किसी भी तरह की सूजन से छुटकारा दिलाता है। रात को सोने से आधे घंटे पहले एक गिलास गर्म पानी में शहद की कुछ बूंद मिलाएं फिर उसको पी ले। रात को खर्राटे की समस्या से आपको छुटकारा दिलाने में मदद करेगा।

 

खर्राटों की समस्या में परहेज करे (Avoid in Get Rid of Snoring) ?

खर्राटों की समस्या जिन लोगो को होती है उन्हें कुछ चीजों से परहेज करना चाहिए। नीचे बताए गए सावधानियों को अपनाकर आप खर्राटे से हमेशा के लिए छुटकारा (How to Get Rid of Snoring Permanently in Hindi) पा सकते है। जैसे कि:-

ज्यादा देर तक नहीं जागे: रात को ज्यादा देर तक जगना नहीं चाहिए। ज्यादा देर तक जागने से आपके नाको की नली में सूजन आती है जिससे खर्राटे की समस्या आने लगती है।

नींद की गोली का सेवन न करें: किसी भी तरह की नींद की गोली का सेवन न करें। नींद की गोली आदि का सेवन करने से आपकी खर्राटे की समस्या बढ़ सकती है। अगर आप इसका सेवन करता है तो उइसका सेवन बंद कर दीजिए।

नशीला पदार्थ ना खाए: किसी भी तरह का नशीला पदार्थ ना खाए उसका सेवन ना करें। धूम्रपान आदि का सेवन बिल्कुल ना करें। धूम्रपान करते हैं तो उसे छोड़ दें क्योंकि धूम्रपान करने से खर्राटे की समस्या से आप निजात नहीं पा सकते हैं, क्योंकि स्मोकिंग नाको की नली में मौजूद झिल्ली के लिए काफी परेशानी का सबब बनता है। जिसके चलते खर्राटे ज्यादा आने की समस्या होने लगती है।

 

पोस्ट: हेमंत कुमार सिंह के द्वारा लिखी गई है।

 

आपके लिए सुझाये गए पोस्ट:

Morning Walk: सुबह सुबह सैर करने के क्या फायदे है, 20 फायदे

Tea vs Coffee: चाय और कॉफी में बेहतर कौन, दोनों के फायदे और नुकसान ।

 

Follow Us:  TwitterFacebookLinkedInYouTubeInstagram

1 thought on “Get Rid of Snoring: खर्राटे के कारण तथा घरेलु इलाज के उपाय क्या है ?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *